06 October 2012

राष्ट्र धर्म से बडा कोई धर्म नहीं - विश्वजीत


सच की 1 छोटी सी चिंगारी झूठ के बडे से बडे पहाड को नष्ट कर देती हैं । यहाँ सच से सम्बन्धित पोस्ट रखी जायेंगी । अतः यह स्थान होगा सच के लिए । यदि आपके हृदय में सच की अग्नि प्रज्वलित हो रही है । और आप सच को निर्भीकता पूर्वक स्वीकार करने की शक्ति रखते हैं । जी हाँ ! इनका नाम है - विश्वजीत सिंह । विश्वजीत जी अपने Introduction में कहते हैं - राष्ट्र धर्म से बडा कोई धर्म नहीं होता । राष्ट्र मेरा धर्म । स्वाध्याय मेरी शिक्षा । और कर्म मेरी पूजा है । मैं जीवन में - सत्य । प्रेम । करूणा । शान्ति । अहिंसा । शौर्य और मानवता पसन्द करता हूँ । स्वदेशी और मातृभाषा का प्रबल समर्थक हूँ । तथा व्यक्तिगत जीवन में भी इसी विचार का अनुकरण करने का प्रयास करता हूँ । सम्प्रति - साम्प्रदायिकता एवं भृष्टाचार के उन्मूलन तथा भारतीय संस्कृति व मानवाधिकार के संरक्षण हेतु प्रगतिशील देश भक्तों के राष्ट्र व्यापी संगठन " साम्प्रदायिकता विरोधी मोर्चा " में राष्ट्रीय महा सचिव हूँ । तथा " अहिंसा सामाजिक व आध्यात्मिक आंदोलन " का संस्थापक अध्यक्ष हूँ । मेरा कार्य ही मेरा परिचय है । और इनका ब्लाग है - sach सच । नाम पर क्लिक करें

4 comments:

Anonymous said...

hi I was luck to look for your theme in yahoo, your Topics is impressive, I learn a lot in your Topics really thanks very much, btw the theme of you blog is really wonderful, where can find it

Anonymous said...

What if i created a blog with the same name as other blog accidentally? is that legal?

Anonymous said...

Your way of deѕcribing eѵerythіng in thіs piece of ωriting іs tгuly fаstidious, all be сapable of easilу be
аware of it, Τhankѕ a lot.

Also visit mу blog - http://www.worldnews.co.uk/

Madan Mohan Saxena said...

http://madan-saxena.blogspot.in/
http://mmsaxena.blogspot.in/
http://madanmohansaxena.blogspot.in/
http://mmsaxena69.blogspot.in/

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...