16 June 2012

छत्तीसगढ़ के अस्तित्व बर लड़िन

इनका शुभ नाम तो पता नहीं । पर Occupation से ये पत्रकार साहित्यकार हैं । और इनकी Location है - ग्राम - डुण्डा । पोस्ट सेजबाहर । जिला रायपुर । पिन कोड - 492015 छत्तीसगढ़ । India ये अनाम ब्लागर अपने परिचय में कहते हैं - हमर पुरखा मन छत्तीसगढ़ के अस्तित्व बर लड़िन । हमला अस्मिता बर लड़ना है । इनके ब्लाग से एक लेख अंश -  छत्तीसगढ़ के महान संत परंम पुज्य गुरू घासीदास ल सत सत नमन । सतनाम के अलख जगइया । जात पात के भेद मिटइया । गरीब अउ दलित के तारण हारक बाबा ल आज वोकर जयंती के सती सोरियावथवं । काबर की सच्चा संत मन अइसने बेरा बखत म ही सुरता आथे । कतको संत मन के तो सुरताच नइ आवे । केहे के बेरा भले गरब से कहि देथन कि हमर छत्तीसगढ़ म बड़े बड़े ऋषि मुनी अउ संत महात्मा मन जनम धरे हे फेर नाव लेके बेरा एको झन के नाव मुंह म नइ आवे । चेत हरा जथे अइसन बात नोहे कारण कुछ अऊ रिथे । गुरू घासीदास के बारे म कहे जाथे कि बाबा ह अपन समय के समाजिक आर्थिक विषमता । शोषण अउ जात पात के लड़ाई लड़िन । और इनका ब्लाग है - चारी चुगली । ब्लाग पर जाने हेतु नाम पर क्लिक करें ।

No comments:

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...