29 February 2012

कुछ खास नहीं है मेरे पास - प्रवीण शाह

मैं तो काले को काला ही कहूँगा । और सफेद को सफेद भी । आपकी मर्जी । आप मुझे जो कुछ भी कहो जी हाँ । इनका शुभ नाम है - प्रवीण शाह । प्रवीण जी अपने परिचय में कहते हैं -  मेरे कुछ मित्र मुझे ईश्वर द्रोही । धर्म विरोधी । इस्लाम विरोधी । हिन्दू विरोधी । ईसाई विरोधी आदि आदि न जाने क्या क्या कहते हैं । जबकि असलियत में मैं केवल कुतर्क । अतार्किकता व अवैज्ञानिकता का विरोधी हूँ । जब तक आप कोई तार्किक या समझ आने वाली बात कह रहे हैं । मैं भी आपके साथ हूँ । पर यदि आप कोई अतार्किक बात कह रहे हैं । या ऐसा कुछ कह रहे हैं । जिसका हकीकत में कोई अर्थ ही नहीं निकलता । जब आप कुतर्क कर रहे हों । अवैज्ञानिक या अतार्किक बातें कह रहे हों । तो आपकी बातों से कोई भी अर्थ नहीं निकलेगा । यह निश्चित है । तो जहाँ तक मुझसे बन पढ़ेगा । मैं आपका विरोध करूँगा । और मेरे इस कृत्य के लिये आप मुझे कुछ भी कह सकते हैं  । एक मध्यवर्गीय परिवार से हूँ । और एक मध्यवर्गीय जीवन जी रहा हूँ । काम लायक शिक्षा भी ली ही है । बाकी कुछ खास नहीं है मेरे पास । अपने बारे में लिखने को इनके ब्लाग हैं -सुनिये मेरी भी कुछ परेशां सा करते सवाल । है कोई जवाब ? जाने हेतु क्लिक करें
Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...