03 November 2011

घुमक्कड़ी जीवन का मूल मंत्र - माधवी शर्मा

Mumbai  Maharashtra  India की निवासी Communications or Media Industry से जुङी
Trying hard to occupy herself..Occupation से सम्बन्धित माधवी शर्मा गुलेरी जी से " उसने कहा था " ब्लाग के साथ परिचय होता है । कुछ इस तरह -  आओ । उसने कहा । और ठहरो । उसने कहा । और मुस्कराओ । उसने कहा । और मर जाओ । उसने कहा ।..मेरे घुमक्कङ ब्लाग मित्रों के अतिरिक्त माधवी जी के जीवन का मूल मन्त्र घुमक्कड़ी है । कुछ इन शब्दों में - सैर कर दुनिया की ग़ाफ़िल । ज़िंदगानी फिर कहां । घुमक्कड़ी जीवन का मूल-मंत्र । कला में अभिरुचि । इससे इतर जाऊं । तो विश्व सिनेमा । साहित्य और फोटोग्राफी में मन रमता है । ब्लॉग के ज़रिए हमख़याल लोगों से राफ्ता कायम करने की कोशिश है । यह ब्लॉग पूजनीय परदादापंडित चन्द्रधर शर्मा गुलेरी जी को समर्पित है । लेखन शौक है । और कोशिश जारी है ।..चलिये माधवी जी ! ब्लाग वर्ल्ड में आपका बहुत बहुत स्वागत है । यहाँ आपको बहुत सारे मित्र और घुमक्कङ भी मिलेंगे । इनका ब्लाग - उसने कहा था

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...