18 July 2011

बातें करना अच्छा लगता है - शिल्पा मेहता

hospet कर्नाटक । भारत की इंजीनियरिंग कॉलेज में पढाने वाली शिक्षिका सुश्री शिल्पा मेहता जी अभी ब्लाग जगत में नयी है । फ़िर भी उन्होंने अपनी अनोखे और अलग किस्म के लेखों से ब्लाग जगत में सबका ध्यान अपनी तरफ़ आकर्षित किया है । या कहिये । धूम मचा दी है । इलेक्ट्रोनिक्स इंजीनियर होने के नाते उन्होंने आध्यात्म और साइंस का सुन्दर समन्वय भी किया है । मैं हमेशा कहता रहा । ब्लाग जगत में मुझे मनपसन्द ब्लाग ( मेरी अभिरुचि के ) ना के बराबर ही मिले । लेकिन शिल्पा जी का ब्लाग मुझे उम्मीद जगाता है । विचारोत्तेजक खोजपूर्ण सामग्री तर्क की कसौटी पर बातचीत सहज ही आकर्षित करती हैं । मुझे उनके अन्य लेखों का भी इंतजार है । आप भी जाकर देखिये । और आगे देखिये शिल्पा जी अपने बारे में क्या बता रही हैं - मैं तो मैं हूँ । आप बताएं पढ़ कर । वैसे एक इलेक्ट्रोनिक्स इंजीनियर हूँ । इंजीनियरिंग कॉलेज में पढ़ाती हूँ । मन से एक लेखक.. लेखिका हूँ । पढना । पढ़ाना । और बातें करना बहुत अच्छा लगता है । ब्लॉग पर आपका स्वागत है - :)) इनके ब्लाग - रेत के महल । और ret ke mahal ( इंगलिश )

12 comments:

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) said...

शिल्पा मेहता जी का परिचय अच्छा रहा!

शिखा कौशिक said...

शिल्पा जी का परिचय अत्यंत रोचक शैली में आपने प्रस्तुत किया है .आभार

शालिनी कौशिक said...

nice introduction nice post

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) said...

आपकी प्रवि्ष्टी की चर्चा कल बुधवार के चर्चा मंच पर भी की गई है!
यदि किसी रचनाधर्मी की पोस्ट या उसके लिंक की चर्चा कहीं पर की जा रही होती है, तो उस पत्रिका के व्यवस्थापक का यह कर्तव्य होता है कि वो उसको इस बारे में सूचित कर दे। आपको यह सूचना केवल उद्देश्य से दी जा रही है!

shilpa mehta said...

http://ret-ke-mahal-hindi.blogspot.com/

shilpa mehta said...
This comment has been removed by the author.
shilpa mehta said...

Thanks Rajeev ji - इस परिचय के लिए धन्यवाद | बस एक त्रुटिसुधार - मैं सुश्री नहीं , श्रीमती शिल्पा मेहता हूँ, और मेरा एक बेटा भी है जो नवी कक्षा में पढ़ रहा हैं | :)

दिगम्बर नासवा said...

शिल्प जी को और जानना बहुत अच्छा लगा ...

Anonymous said...

Very useful reading. Very helpful, I look forward to reading more of your posts.

Anonymous said...

La tesis de Gorer de que la muerte ha ocupado

Anonymous said...

Il reconnut alors que la hernie etait bien formee,

Anonymous said...

continuοusly і used tо read smalleг
cоntent which аѕ well clеаr their
motіve, and that iѕ also hаppening ωіth thiѕ article which I аm reаding here.


Reѵіеw my ωeb blоg Forum.mapfactor.com

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...