08 July 2011

मैं एक चिड़िया ही हूँ - अक्षिता पाखी

मेरा नाम अक्षिता है । सब मुझे प्यार से पाखी नाम से बुलाते हैं । मेरा ये निकनेम अच्छा है ना । आप भी मुझे पाखी कहकर  बुला सकते हैं । पाखी माने पक्षी या चिड़िया । मैं भी तो एक चिड़िया ही हूँ । जो दिन भर इधर उधर फुदकती रहती हूँ । मेरा जन्म 25 मार्च को हुआ । अब इसे अपने दिमाग की डायरी में नोट कर लीजिये । तभी तो आप मुझे जन्मदिन की बधाई देंगे । और ढेर सारे गिफ्ट भी । और हाँ..खूब सारा प्यार और आशीर्वाद भी । मुझे अच्छा लगता है - खेलना । नृत्य करना । चित्र बनाना । आइसक्रीम खाना और ढेर सारी शरारतें करना । मेरे ममा श्रीमती आकांक्षा पापा श्री कृष्ण कुमार यादव हैं । मेरा ददिहाल आजमगढ़ और ननिहाल सैदपुर (गाजीपुर) में है । फ़िलहाल ममा पापा के साथ पोर्टब्लेयर (अंडमान) में हूँ । मेरी छोटी बहन तन्वी भी है । मैं LKG में पढ़ती हूँ । 'पाखी की दुनिया' में आप पायेंगें मेरी ढेर सारी बातें । घूमना फिरना । मेरी क्रिएटिविटी । मेरी फेमिली और स्कूल की बातें और भी बहुत कुछ । यह ब्लॉग 24 जून 2009 को आरंभ हुआ । अब तो यहाँ भी खूब फुदक फुदक करुँगी । इनका ब्लाग - पाखी की दुनियाँ  


8 comments:

: केवल राम : said...

अक्षिता जी किसी परिचय की मोहताज नहीं ..यहाँ परिचय जानकार अच्छा लगा ..!

Kailash C Sharma said...

अक्षिता से परिचय पहले से ही है. हार्दिक शुभकामनायें और प्यार..

devendra gautam said...

gazalganga.in

Ram Shiv Murti Yadav said...

पाखी की दुनिया तो वाकई बहुत प्यारी है. ढेर सारी प्यारी-प्यारी बातें. अक्षिता (पाखी) के बारे में यहाँ पढ़कर सुखद अनुभूति हुई. सुन्दर और रोचक प्रस्तुति के लिए आभार !!

____________________
http://yadukul.blogspot.com/

Akshita (Pakhi) said...

यह लीजिये, चिड़िया यहाँ भी उड़कर आ गई. इत्ती प्यारी सी चर्चा और आप सभी के स्नेह के लिए ढेर सारा प्यार और आभार.

निर्मल गुप्त said...

n-kumarsambhav.blogspot.com

Anonymous said...

thanks, enjoyed the article

Anonymous said...

un recurso para aliviar el trabajo malsano,

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...