03 July 2011

आवाज़ उठाना ज़रुरी है - गिरजेश कुमार

भागलपुर बिहार के रहने वाले और फ़िलहाल पटना में पत्रकारिता की पढाई कर रहे श्री गिरजेश कुमार जी एक सच्चे देशवासी की तरह समाज और सामाजिक समस्याओं के प्रति न सिर्फ़ पूरी तरह जागरूक हैं । बल्कि कलम और चलन दोनों के द्वारा ही उसको व्यवहार में भी लाते हैं । ये एक सच्चे और युवा पत्रकार की बेहतरीन शुरूआत कही जा सकती हैं । मेरा निजी दृष्टिकोण भी यही है कि हम कुछ और होने से पहले एक सच्चा इंसान होना अधिक जरूरी है । श्री गिरजेश अपने बारे में कहते हैं - मैं गिरिजेश कुमार । दुनिया में सिल्क सिटी के नाम से मशहूर 'भागलपुर' ( बिहार ) से सम्बन्ध रखता हूँ । समाज और सामाजिक समस्याओं के प्रति दिलचस्पी ने पत्रकारिता जगत की ओर आकर्षित किया । अभी मैं एडवांटेज मीडिया एकेडेमी, पटना से पत्रकारिता की पढाई कर रहा हूँ । मुझे लगता है सामाजिक कुरीतियाँ जब समाज को पीछे धकेलने की कोशिश करती है । तो इसके लिए आवाज़ उठाना ज़रुरी हो जाता है । इसी उद्देश्य से मैंने ब्लॉग लिखना शुरू किया है । आशा है । पाठकों का सहयोग मिलेगा । शुभकामनाओं सहित । इनके ब्लाग - चलते चलते अल्फ़ाज ए दिल

6 comments:

शालिनी कौशिक said...

KABIR DAS JI NE KAHA HAI-
''SATGURU AISA CHAHIYE JAISA SEEP SUBHAY,
SAR SAR KO GAHI RAHE THOTHA DAYE UDAYE.''
AUR AAPKI HAR PRASTUTI YAHI KAH RAHI HAI KI AAP BLOG JAGAT ME SE SAR KO HI GRAHAN KAR RAHE HAIN.
VERY VERY VERY NICE POST RAJIV JI.

शिखा कौशिक said...

nice post .

: केवल राम : said...

आज ऐसे निर्भीक युवाओं की देश समाज को जरुरत है जो देश को सर्वोपरि स्थान दे सकें ....ऐसे व्यक्तियों के मेरा सलाम ..!

Anonymous said...

Great post, I think I can actually use this.

Anonymous said...

La asistencia medica institucional durante toda,

Anonymous said...

al trabajador de suficiente asistencia medica,

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...