29 March 2011

उमृ के लिहाज से बहुत छोटी हूँ । पश्यंती शुक्ला

मौसमी प्रतिकूलता । पथभृष्ट करने को तुली है । किंतु दूजी राह चलने की । कभी न मैंने मानी । अऩकही मेरी कहानी ।..भाई लोगो..ये पश्यंती जी तो बहुत प्यारी प्यारी बातें करती हैं । ( अरे ! प्यारी नहीं बहुत सारी बातें करती हैं । ) क्योंकि ये रिपोर्टर हैं । TV पर कैमरे के सामने बङबङ..बङबङ..। लेकिन..उमृ के लिहाज से बहुत छोटी होने के बाद भी इनकी बातें बहुत बङी बङी और असरदार हैं ।..तो एक बार जाईये । इनके ब्लाग पर । और देखें । इनके धारदार विचारों को । लेकिन उससे पहले ! आईये देखें । पश्यंती जी अपने बारे में क्या क्या बता रहीं हैं ।..उमृ के लिहाज से बहुत छोटी हूँ । शायद इसलिए कभी कभी चाह के भी कुछ लिख नहीं पाती । लेकिन मन में कभी कोई टीस सी मचती है । जब तो चाह के भी फिर दबा नही पाती । और ये अनकही कुछ कह जाती है ।  पश्यंती शुक्ला..Industry । Communications or Media । Occupation । REPORTER Location । Noida । UP । India । ब्लाग..अनकही
Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...