17 March 2011

मिल गया..खुशियों का समंदर ।निर्मला कपिला

बेबाक..खुली..स्पष्ट बात कहने और पारदर्शी टिप्पणी करने वालीं ब्लाग ग्रैंड मदर सुश्री निर्मला कपिला जी लिखतीं भी उसी बेबाकी से हैं ।..अब पंजाब जाऊँगा । तो आपकी प्रकाशित किताबें लेकर भी पढूँगा ।
( अरे तारीफ़ सुनकर फ़ोकट में दे देंगी..समझते नहीं हो यार..) खैर..आप सबको होली की बहुत बहुत शुभकामनाओं के साथ..आईये..निर्मला दादी जी के प्रवचन सुनें..अपने लिये कहने को कुछ नहीं मेरे पास । पंजाब मे एक छोटे से खूबसूरत शहर नंगल मे होश सम्भाला । तब से यहीं हूँ । बी.बी.एम.बी अस्पताल से चीफ फार्मासिस्ट रिटायर हूँ । अब लेखन को समर्पित हूँ । मेरी तीन पुस्तकें प्रकाशित हो चुकी हैं । 1 " सुबह से पहले " कविता संग्रह 2 " वीरबहुटी " कहानी संग्रह 3 " प्रेमसेतु " कहानी संग्रह आजकल अपनी रूह के शहर " इस ब्लाग " पर अधिक रहती हूँ । आई थी..एक छोटी सी मुस्कान की तलाश में । मगर मिल गया .. खुशियों का समंदर । कविता । कहानी । गज़ल । मेरी मनपसंद विधायें हैं । पुस्तकें पढना और ब्लाग पर लिखना मेरा शौक है । ब्लाग..वीर बहूटी वीरांचल गाथा ।

10 comments:

: केवल राम : said...

आदरणीया निर्मला कपिला जी ब्लॉग जगत में बहुत सक्रिय हैं और सभी को आगे बढ़ाने का कार्य कर रहीं हैं ...उनके परिचय को यहाँ प्रस्तुत करने के लिए आपका आभार

Er. सत्यम शिवम said...

निर्मला जी के व्यक्तित्व से हमे रुबरु कराने हेतु..आभार...हमेशा हमे प्रोत्साहीत करती है,और आगे बढ़ने की प्रेरणा देती है.........बहुत ही ममतामयी छवि है इनकी।

संगीता स्वरुप ( गीत ) said...

निर्मला जी से यहाँ मिलना अच्छा लगा

G.N.SHAW ( B.TECH ) said...

निर्मला जी बहुत ही सुन्दर लिखती है ! एक बार वें मेरे ब्लॉग बालाजी पर मंगल पाण्डेय के ऊपर टिपण्णी करते हुए आई थी ..उसके बाद फिर कभी नहीं..शायद बालाजी पसंद नहीं आये ! वैसे मंगल पांडे के पोस्ट पर टिपण्णी यह संकेत देती है ..की देश के प्रति और देश के लिए बलिदान शहीदों के प्रति ...उच्च भावना रखती है ! जी हाँ राजीव जी मैंने आप का कर्ज अदा कर दिया है ! वैसे मेरी मजबूरी भी समझे ! सभी को मेरे तरफ से होली की शुभ कामनाये !

Kailash C Sharma said...

निर्मला जी के सशक्त लेखन से पहले से ही परिचित हैं. यहाँ उनके बारे में जानकार बहुत अच्छा लगा.

sandhya said...

आदरणीया निर्मला कपिला जी,
आप की रचनाएँ बहुत ही सुन्दर, प्रेरक और सबसे बड़ी बात तो मर्मस्पर्शी होती हैं. राजीव जी इनके लेखन से हम पहले से ही परिचित हैं. यहाँ उन्हें देखकर बहुत अच्छा लगा.
होली की हार्दिक शुभ कामनाएँ ....

mridula pradhan said...

nirmala jee ke bare men jankar bahut achcha laga.

Anonymous said...

i have begun to visit this cool site a few times now and i have to tell you that i find it quite good actually. keep the nice work up! =)

Anonymous said...

Zweck wie durch die Hande des Arbeiters erzielt,

Anonymous said...

une tumeur situee sur la partie laterale et,

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...