07 March 2011

मैं गलत बात बर्दाश्त नहीं कर पाती । शालिनी कौशिक


ये कितनी सुखद बात है कि हम सबके बीच दुखी पीङित इंसान का दुख दर्द दिल से न सिर्फ़ महसूस करने वालीं । बल्कि पीड़ितों की मदद भी करने वालीं वकील साहिबा सुश्री शालिनी कौशिक जी..एज ए ब्लागर ..एज ए सच्चे भावुक इंसान मौजूद हैं । इन्हीं भावों और भावुकता में इनसे भी चार कदम आगे इनकी छोटी बहन सुश्री शिखा कौशिक जी भी हमारे बीच हैं । आईये देखें । शालिनी जी अपने दिल की बात कैसे शेयर कर रहीं हैं ।..मैं एक अधिवक्ता हूँ । और मैं हर वक़्त पीड़ितों की मदद के लिए तैयार हूँ । ये तो हुई बाहरी बात । किन्तु अन्दर से मेरे परिवार के लोग अर्थात मेरे मम्मी-पापा और छोटी बहन मुझे जिद्दी कहते हैं । ये कुछ हद तक सही भी है । किन्तु वास्तव में मैं गलत बात बर्दाश्त नहीं कर पाती । और जब तक स्वयं को सही नहीं समझती । तब तक उस बात पर अडती भी नहीं । इसलिए मुझे जिद्दी की श्रेणी में लिया जाता है । मैं नारीवादी या पुरुषवादी भी नहीं हूँ । क्योंकि मैं देखती हूँ कि जहाँ जिसका दांव पड़ जाता है । वही दूसरे पक्ष को दबा डालता है । BLOG..कौशल कानूनी ज्ञान

17 comments:

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) said...

शालिनी कौशिक जी से मिलवाने के लिए शुक्रिया!
--
महिला दिवस की बहुत-बहुत शुभकामनाएँ!
--
केशर-क्यारी को सदा, स्नेह सुधा से सींच।
पुरुष न होता उच्च है, नारि न होती नीच।।
नारि न होती नीच, पुरुष की खान यही है।
है विडम्बना फिर भी इसका मान नहीं है।।
कह ‘मयंक’ असहाय, नारि अबला-दुखियारी।
बिना स्नेह के सूख रही यह केशर-क्यारी।।

शिखा कौशिक said...

राजीव जी मेरी दीदी को यहाँ स्थान देने के लियें मैं भी आपकी बहुत बहुत आभारी हूँ. वे वास्तव में अन्याय बर्दाश्त नहीं कर पाती कई बार तो हमें ही उन्हें रोकना पड़ता है और इसी कारण वे सारे में जिद्दी कहलाती हैं.वैसे वे मेरी परमानेंट वकील हैं वकालत करने से भी पहले की .पर एक बात समझ में नहीं आयी कि मैं उनसे चार कदम कैसे आगे हूँ?

शालिनी कौशिक said...

राजीव जी आपने मुझे इस पर स्थान दिया इसके लिए मैं आपकी आभारी हूँ आप जैसे ब्लोगेर ही इस ब्लॉग जगत में हमारी स्थिरता सुनिश्चित कर रहे हैं .आपकी टिपण्णी का मैं ज़रूर लाभ उठाऊँगी और हिंदी में टायपिंग का आनद लूंगी..

दर्शन कौर धनोए said...

शालिनी जी किसी परिचय की मोहताज नही है उनका परिचय "प्यारी माँ "के जरिए काफी दिनों का हे बहुत संवेदन शील नारी है आज नारी दिवस पर उन्हें ढेरो शुभ कामनाए---

रश्मि प्रभा... said...

jo galat bardasht nahin ker sakta , wak khud mein santusht hota hai aur uske vyaktitv ke aage her kamzori bauni ho jati hai

संगीता स्वरुप ( गीत ) said...

शालिनी जी से परिचय अच्छा लगा

Patali-The-Village said...

शालिनी कौशिक जी से मिलवाने के लिए शुक्रिया|

महिला दिवस की बहुत-बहुत शुभकामनाएँ|

DR. ANWER JAMAL said...

Nice post.
MY BLOG URL
http://blogkikhabren.blogspot.com/

DR. ANWER JAMAL said...

http://blogkikhabren.blogspot.com/

http://ahsaskiparten.blogspot.com/

http://satyarth-prakash.blogspot.com/

http://vedquran.blogspot.com/

http://pyarimaan.blogspot.com/

वन्दना said...

शालिनी कौशिक जी से मिलवाने के लिए शुक्रिया!
--
महिला दिवस की बहुत-बहुत शुभकामनाएँ!

दिगम्बर नासवा said...

शालिनी जी से मिलवाने के लिए शुक्रिया .,.

Anonymous said...

Good article! Keep it up!

Anonymous said...

La llevaron al hospital en estado comatoso,

Anonymous said...

fractures des membres inferieurs,

Anonymous said...

Good web site you have here.. It's difficult to find high quality writing like yours these days. I really appreciate people like you! Take care!!

Feel free to visit my weblog Http://Www.Erovilla.Com
my web site > cams

Anonymous said...

Superb blog! Do you have any tips for aspiring writers?

I'm hoping to start my own site soon but I'm a little lost
on everything. Would you advise starting with
a free platform like Wordpress or go for a paid option? There are
so many choices out there that I'm completely confused .. Any ideas? Many thanks!

Also visit my web page: like this

Anonymous said...

Every weekend i used to pay a quick visit this web site, as i
wish for enjoyment, as this this website conations really nice
funny stuff too.

My web blog: like chatroulette

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...